PM KUSUM YOJANA 2022-23 : कुसुम योजना के तहत कृषि में सोलर पंपों पर 75 प्रतिशत सब्सिडी

PM KUSUM YOJANA 2022-23 : अगर कृषि करनी है तो पानी की पर्याप्त व्यवस्था जरूरी है। कहते हैं पानी के बिना सब कुछ मर जाता है। उन्नत और आधुनिक खेती के लिए सिंचाई के कई संसाधन आए हैं, लेकिन इन सबके लिए नलकूपों की जरूरत है और यह नलकूप बिना सौर या बिजली के कैसे चल सकता है। यहां बता दें कि सरकार किसानों ( Farmer ) को सिंचाई के साधन जुटाने के लिए सब्सिडी ( Subsidy ) दे रही है.

Also Read – Vridha Pension KYC Update: वृद्धा / विधवा पेंशन धारको के लिए KYC करने वाले ध्यान दे

वैसे तो केंद्र और राज्य सरकार की कई योजनाएं चल रही हैं, लेकिन अगर सोलर पंप कृषि कनेक्शन की बात करें तो इस पर हरियाणा सरकार की ओर से किसानों ( Farmer ) को 75 प्रतिशत तक की सब्सिडी ( Subsidy ) दी जाती है. इन्हीं योजनाओं में से एक है कुसुम योजना ( PM kusum Yojana )। इस पोस्ट में आपको सोलर पंप सब्सिडी योजना ( Solar Pump Subsidy Yojana ) के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है, जो किसान भाइयों के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती है।

Also Read – Uttar Pradesh Panchayatiraj Architect / Consulting Engineer (Civil) ऑनलाइन फॉर्म 2022

हरियाणा ( Haryana ) सरकार दे रही है सब्सिडी हरियाणा सरकार राज्य के किसानों ( Farmer ) को सोलर पंपों पर 75 प्रतिशत सब्सिडी ( Subsidy ) दे रही है। अगर आप हरियाणा राज्य के निवासी किसान हैं तो आज ही ऑनलाइन आवेदन करके सोलर पंप कृषि कनेक्शन पर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

Also Read – Uttar Pradesh UPSRLM UP BC: Sakhi Yojana भर्ती 2022

यहां बता दें कि पहले किसानों ( Farmer ) को बिजली कनेक्शन या सिंचाई के लिए कृषि पंप कनेक्शन के लिए ऑफलाइन आवेदन करना पड़ता था। अब यह प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन हो गई है। ऐसा करने के पीछे सिंचाई विभाग का मानना ​​है कि किसान जब पंप कनेक्शन के लिए ऑफलाइन आवेदन करते थे तो उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। अब सोलर पंप के लिए ऑनलाइन आवेदन करने पर इसकी खरीद पर 75 प्रतिशत तक सब्सिडी ( Subsidy ) का लाभ उठाया जा सकता है।

कृषि में सिंचाई का महत्व:

भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहां की करीब 70 फीसदी आबादी प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से कृषि से जुड़ी हुई है। वहीं कृषि से जुड़े कई प्रकार के व्यवसाय हैं जैसे मछली पालन, मुर्गी पालन, पशुपालन आदि। यदि कृषि में सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था होगी तो अन्य सहायक व्यवसाय ही चल सकेंगे। गर्मी के मौसम में जायद फसलों में पानी की अधिक आवश्यकता होती है, इसलिए सोलर पंप कृषि कनेक्शन ( Solar Pump Subsidy Yojana ) सबसे कम लागत और बेहतर सिंचाई संसाधन है। यह सब्सिडी हरियाणा में भी उपलब्ध है।

राजस्थान में सोलर पंप पर 60 फीसदी सब्सिडी:

यहां आपको बता दें कि हरियाणा की तरह राजस्थान में भी किसानों ( Farmer ) को सोलर पंप लगाने पर 60 फीसदी तक सब्सिडी ( Subsidy ) दी जाती है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सौर ऊर्जा सब्सिडी योजना 2022 ( Solar Energy Subsidy Yojana ) के तहत किसानों को इस योजना के लिए आवेदन करने के लिए आमंत्रित किया है। बिजली बचाने के लिए सरकार ने राजस्थान सोलर पंप सब्सिडी योजना ( Rajasthan Solar Pump Subsidy Yojana ) शुरू की है।

यह है राजस्थान सोलर पंप योजना के लिए पात्रता:

जिन किसानों ( Farmer ) के पास अपनी जमीन है वे इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। कम से कम 0.5 हेक्टेयर जमीन होनी चाहिए। इस योजना में केवल राजस्थान ( Rajasthan ) के मूल निवासी ही आवेदन कर सकते हैं। छोटे और सीमांत किसानों को प्राथमिकता। जो किसान बिजली कनेक्शन के माध्यम से बिजली के पंपों का उपयोग कर रहे हैं वे इस योजना के लिए पात्र नहीं होंगे। राज्य के जिन क्षेत्रों को डार्क जोन घोषित किया गया है, वहां नलकूप या कुएं होने पर ही आवेदन लिए जाएंगे. अपने खेत में सोलर पंप प्लांट लगाने के लिए पावर ग्रिड से खेत की दूरी कम से कम 300 किमी होनी चाहिए।

इस योजना से जुड़ने के लिए सबसे पहले आपको अपने क्षेत्र के बिजली विभाग के कार्यालय में जाना होगा। वहां निर्धारित राशि कम से कम 1000 रुपए जमा करनी होगी। इसके बाद आपको अप्लाई करना होगा। आवेदन के लिए अप्रूवल के बाद उसका एक प्रिंटआउट निकाल लें। आवेदन में पूछी गई जानकारी को ध्यान से भरें और आवश्यक दस्तावेज संलग्न करना न भूलें। अब इस फॉर्म को अपने जिले के बागवानी विकास सोसायटी कार्यालय में जमा करें।

राजस्थान सौर ऊर्जा सब्सिडी ( Rajasthan Solar Energy Subsidy Yojana ) के लाभ राजस्थान में सौर पंपों ( Solar Pump ) पर दी जाने वाली सब्सिडी ( Subsidy ) के साथ-साथ इस योजना के कई लाभ हैं। सौर ऊर्जा ( Solar Energy ) की लागत बिजली से कम होती है। जो बचत होगी उससे किसान अपने दूसरे कामों में इसका इस्तेमाल कर सकता है. सोलर पंप लगाने के बाद सात साल तक मेंटेनेंस की जिम्मेदारी सप्लायर फर्म की ही होती है।

PM Kusum Free Solar Pump Yojana हेतु आवश्यक दस्तावेज

आवेदनकर्ता के पास , पासपोर्ट साइज फोटो आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, बैंक खाता पास बुक और मोबाइल नंबर होना जरुरी है।

किसान के पास अपनी भूमि से जुड़े दस्तावेज, रजिस्ट्रेशन की कॉपी और चार्टेड अकाउंटेंट द्वारा जारी नेटवर्थ सर्टिफिकेट आवश्यक है।

PM Kusum Free Solar Pump Yojana ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

  • सबसे पहले आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट mnre.gov.in के माध्यम से पीएम कुसुम फ्री सोलर पंप योजना  पर जाना होगा
  • इसके बाद होम पेज पर आवेदक को कुसुम फ्री सोलर पंप योजना से जुड़े दिशा-निर्देश पढ़ना होगा क्योंकि इनसे आवेदक को पंजीकरण करने में आसानी होगी
  • इसके अलावा यदि आवेदक को योजना से जुडी कोई भी जानकारी जाननी हो तो वह अपने नोडल ऑफिसर से सम्पर्क कर सकते है
Solar Rooftop Panel करें आवेदन: 15 दिनों में लगेगा Solar Panel
PM Kisan Samman Nidhi के साथ मिलेंगे 3 लाख रुपए, जानें पूरी जानकारी
PM Ujjwala Yojana 2.0 Apply 2022: फ्री गैस सिलिंडर


1 thought on “PM KUSUM YOJANA 2022-23 : कुसुम योजना के तहत कृषि में सोलर पंपों पर 75 प्रतिशत सब्सिडी”

Leave a Comment